Actor Dilip Joshi | संघर्ष की आग में तपकर सोना बने हैं तारक मेहता शो के जेठालाल | Biography

Dilip Joshi. कई सालों से तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो भारत के दर्शकों का लगातार मनोरंजन करता आ रहा है। यूं तो इस शो का हर किरदार अपने आप में बेहद खास है। लेकिन इसका सबसे मेन किरदार है जेठालाल गढ़ा जिसे निभाया है दिलीप जोशी ने। इस शो ने दिलीप जोशी को हर वो चीज़ दी है जो कोई भी इंसान अपने लिए चाहता है।

actor-dilip-joshi-biography
Actor Dilip Joshi Biography - Photo: Social Media

नाम, पैसा, इज्ज़त और शोहरत। हर चीज़ दिलीप जोशी को तारक मेहता का उल्टा चश्मा से मिली है। यूं तो एक्टिंग की दुनिया में वो काफी पहले से एक्टिव थे। लेकिन उनकी किस्मत बदली है तो सिर्फ और सिर्फ तारक मेहता का उल्टा चश्मा ने।

Meerut Manthan आज आपको Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah के Jethalal यानि Dilip Joshi की ज़िंदगी की कहानी बताएगा। Dilip Joshi जो कभी काम के लिए दर-दर भटकते थे आज वो इस शो से किस तरह की ज़िंदगी जीते हैं, आज यही हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे।

ये भी पढ़ें: Shiva Rindani | 90s की Bollywood Movies में गुंडा बनने वाले इस Actor को कितना जानते हैं आप? | Biography

Dilip Joshi का शुरूआती जीवन

दिलीप जोशी का जन्म हुआ था 26 मई 1968 को गुजरात के पोरबंदर में। मात्र 12 साल की उम्र में ही इन्होंने नाटकों में हिस्सा लेना शुरू कर दिया था। ये गुजराती नाटकों में काम करने लगे थे। कम उम्र में ही रंगमंच की दुनिया में इनके कदम बढ़ाने का श्रेय इनकी मां को जाता है।

दरअसल, जब ये काफी छोटे थे। तभी ये फिल्म कलाकारों की मिमिक्री करने लगे थे। इनकी मां जब इन्हें ऐसा करते देखती थी तो बहुत खुश होती थी और उन्होंने तभी फैसला कर लिया था कि आगे चलकर वो अपने बेटे को नाटकों में काम करने के लिए प्रोत्साहित करेंगी।

पहले नाटक में मूर्ति बने थे Dilip Joshi

ये वो वक्त था जब गुजरात में एक्टिंग को सबसे घटिया काम माना जाता था। मां का सपोर्ट मिला तो ये भी आ गए नाटकों में और कई सालों तक नाटकों में छोटे-मोटे रोल करते रहे। पहले नाटक में ये एक मूर्ति बने थे और लगभग सात से आठ मिनट तक मूर्ति बनकर खड़े रहे थे।

फिर आगे की पढ़ाई के लिए ये मुंबई आ गए और मुंबई के एनएम कॉलेज से इन्होंने बीकॉम में ग्रेजुएशन किया। साथ ही ये रंगमंच की दुनिया से भी जुड़े रहे। रंगमंच पर ये इतना शानदार काम करते थे कि इन्हें तीन दफा इंडियन नेशनल थिएटर यानि आईएनटी बेस्ट एक्टर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

Dilip Joshi का पहला टीवी शो

छोटे पर्दे पर ये पहली दफा नज़र आए साल 1995 में दूरदर्शन के शो "कभी ये कभी वो" में। हालांकि ज़्यादातर लोग कहते हैं कि इनका पहला शो था 1997 में दूरदर्शन पर टेलिकास्ट होने वाला "क्या बात है।" जबकी ऐसा नहीं है। "क्या बात है" इनके टीवी करियर का दूसरा शो है। इसके बाद इन्होंने कुछ और टीवी शोज़ में काम किया जैसे दाल में काला, कोरा कागज़, दो और दो पांच, हम सब एक हैं और ये दुनिया है रंगीन।

ये थी Dilip Joshi की पहली फिल्म

दिलीप जोशी को भले ही पहचान टीवी से मिली हो। लेकिन फिल्मों में इन्होंने बहुत पहले से ही काम करना शुरू कर दिया था। साल 1989 में रिलीज़ हुई सलमान खान की सुपरहिट फिल्म मैंने प्यार किया में ये रामू नाम के नौकर के किरदार में नज़र आए थे। इसके बाद 1992 में ये हुन हुंशी हुन्शीलाल नाम की एक गुजराती फिल्म में दिखे।

फिर 1994 में ये सलमान खान की ही एक और सूपर-डूपर हिट फिल्म हम आपके हैं कौन में नज़र आए और इस फिल्म में भी ये सलमान खान के नौकर भोला के रोल में दिखे। वहीं सुपरस्टार शाहरुख खान के साथ भी ये दो फिल्मों में नज़र आ चुके हैं। ये फिल्में हैं वन टू का फोर और फिर भी दिल है हिंदुस्तानी। खिलाड़ी 420 नाम की फिल्म में ये अक्षय कुमार के साथ दिखे थे।

फिल्मों में नहीं चली किस्मत

इतने बड़े सितारों के साथ काम करने के बावजूद भी दिलीप जोशी की ज़िंदगी मुश्किलों से भरी हुई थी। इन्हें कोई खास पहचान नहीं मिल रही थी। और ना ही बहुत ज़्यादा खास काम मिल पा रहा था। ये पैसों की तंगी के चलते काफी परेशान थे और काम मांगने के लिए डायरेक्टर-प्रोड्यूसर्स के ऑफिसों के चक्कर लगाते रहते थे।

इनकी आखिरी रिलीज़्ड फिल्म थी 2009 में रिलीज़ हुई व्हाट्स योर राशि। इसके बाद वे फिर कभी फिल्मों में नज़र नहीं आए। क्योंकि इस समय तक इन्हें एक ऐसा टीवी शो मिल गया था जिसने इनकी बेपटरी हो चुकी ज़िंदगी को फिर से पटरी पर ला दिया था। ये शो था तारक मेहता का उल्टा चश्मा।

जेठालाल के रोल ने बदल दी Dilip Joshi की किस्मत

तारक मेहता शो के शुरू होने से पहले ये लगभग 1 साल तक बेरोजगार रहे थे। फिर जब इन्हें तारक मेहता का उल्टा चश्मा में काम मिला तो ये थोड़ा टेंशन फ्री हुए। इन्हें लगा कि अब कम से कम इनके पास पैसे आते रहेंगे और ये अपने परिवार का गुज़ारा करते रहेंगे।

लेकिन तब इन्हें कहां पता था कि ये इस शो के ज़रिए पूरे भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया के एक बहुत बड़े हिस्से में लोकप्रिय होने वाले हैं। 26 जुलाई 2008 को तारक मेहता का उल्टा चश्मा का पहला एपिसोड सब टीवी पर टेलिकास्ट हुआ। बस इसके बाद कभी भी दिलीप जोशी ने पीछे मुड़कर नहीं देखा।

शो के सबसे महंगे एक्टर हैं Dilip Joshi

जेठालाल गढ़ा के किरदार में दिलीप जोशी इतनी खूबसूरती से उतरे की लोग इनके फैन हो गए। आज दिलीप जोशी किसी पहचान के मोहताज़ नहीं हैं। इस शो से दिलीप जोशी अब तक लगभग 16 बार टीवी का बेस्ट एक्टर अवॉर्ड जीत चुके हैं। टीआरपी रेटिंग में ये शो बड़े-बड़े टीवी शोज़ को पीछे छोड़ देता है।

इस शो के एक एपिसोड को शूट करने के लिए दिलीप जोशी डेढ़ लाख रुपए फीस के रूप में लेेते हैं। इस तरह महीने में तकरीबन 25 दिन शूट करने के बाद दिलीप जोशी 36 लाख रुपए सैलरी के तौर पर ले रहे हैं। दिलीप इस शो के सबसे महंगे एक्टर हैं।

इतने अमीर हो चुके हैं दिलीप जोशी

इस शो की बदौलत ही दिलीप ने मुंबई के अंधेरी इलाके में एक आलीशान मकान खरीद लिया है। आज इनके पास 50 करोड़ रुपए की संपत्ति मौजूद है। शो में भले ही जेठालाल ऑटो रिक्शा से चलता हो।

लेकिन असल ज़िंदगी में दिलीप जोशी के पास ऑडी क्यू7 जैसी सुपर लग्ज़री कार मौजूद है जिसकी कीमत है 80 लाख रुपए। इसके अलावा भी इनके पास कुछ और कारें हैं जिनमें सबसे प्रमुख है टोयोटा इनोवा एमपीवी। ये कार 14 लाख रुपए की कीमत वाली है।

गड़ा इलैक्ट्रोनिक की भी बदल दी किस्मत

शो में आप जिस गड़ा इलैक्ट्रोनिक्स को देखते हैं वो दुकान वास्तव में मुंबई के खार इलाके में मौजूद है। लगभग हर एपिसोड में नज़र आ जाने वाली ये दुकान शेखर गड़ियार नाम के शख्स की है। जहां पहले इस दुकान का नाम शेखर इलैक्ट्रोनिक्स था। 

वहीं तारक मेहता शो के चलते मशहूर होने के बाद उन्होंने इस दुकान का नाम गड़ा इलैक्ट्रोनिक्स रख दिया है। शो की शूटिंग के लिए वो अपनी इस दुकान को किराए पर दे देते हैं। दुकान के मालिक का कहना है कि शुरूआत में वो काफी डरते थे कि कहीं शूटिंग करने वाले उनकी दुकान का सामान ना तोड़ दें। 

लेकिन आज तक ऐसी एक भी घटना नहीं हुई है। बल्कि अब तो ये दुकान एक टूरिस्ट स्पॉट बन चुकी है। दुकान में ग्राहक से ज़्यादा टूरिस्ट आते हैं और इस दुकान में जमकर फोटो खिंचाते हैं।

ऐसी है इनकी निजी ज़िंदगी

बात अगर दिलीप जोशी की पर्सनल लाइफ के बारे में करें तो इनकी शादी हुई है जयमाला जोशी से। ये शादी इनकी मां ने अपनी पसंद की लड़की से की थी। जयमाला और इनके दो बच्चे हैं। बेटा रित्विक और बेटी नियति। अपने परिवार के साथ दिलीप जोशी मुंबई के अंधेरी स्थित अपने घर में रहते हैं।

किसी स्टार से कम नहीं हैं दिलीप जोशी

दिलीप कहते हैं कि फिल्मों में इतना ज़्यादा कॉम्पिटिशन है कि उन्हें कभी भी उस तरफ सफलता नहीं मिल पाई। लेकिन आज उनका रुतबा किसी फिल्म स्टार से कम नहीं है। लोग उन्हें बहुत अच्छी तरह से पहचानते हैं और अगर वो कहीं जाते हैं तो लोग उन्हें देखकर भीड़ लगा लेते हैं। फोटो खिंचाते हैं। बिल्कुल ऐसा ही तो किसी फिल्मस्टार के साथ ही होता है।

मेरठ मंथनर की दिलीप जोशी के लिए दुआएं

दिलीप जेठालाल के किरदार से बेहद खुश हैं और कहते हैं कि ये शो और भी कई सालों तक चलता रहे ऐसी प्रार्थना वो ईश्वर से रोज़ करते हैं। मेरठ मंथन भी ईश्वर से यही प्रार्थना करता है कि तारक मेहता का उल्टा चश्मा शो और भी कई सालों तक चलता रहे और दर्शक दिलीप जोशी को जेठालाल के किरदार में देखकर अपना मनोरंजन करते रहें। जय हिंद।

टिप्पणियाँ

  1. बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने इसके लिए शुभकामनाएं। दिलीप जोशी ने जेठा लाल के किरदार को निभाया ही नहीं जिया है, सच कहूँ तो मेरे घर मे सब इन्हें जेठा लाल ही कहते हैं।
    वैसे आप ने जो हम आपके हैं कौन फ़िल्म का जिक्र किया उसमे इन्होंने सलमान के नॉकर का नहीं बल्कि माधुरी दीक्षित के मौसेरे भाई का रोल किया था।

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

Zaheeda Hussain | वो अभागी Bollywood Actress जिसका करियर देवानंद के चक्कर में तबाह हो गया | Biography

Chunky Pandey | Bollywood से बांग्लादेश जाकर रुतबा बनाने वाले चंकी पांडे की कहानी | Biography

Chadti Jawani Meri Chaal Mastani Remix | कहां हैं 90s के इस सुपरहिट गाने में नज़र आई ये लड़कियां? जान लीजिए